Subscribe Us

banner image

Most Recent

banner image

क्या बिटकॉइन को मात दे पाएगा जिओ कॉइन

jiocoin


Jio जलद ही jiocoin लॉन्च करणे जा राहा हैै ।

 पर अभि तक जिओ की और से ऑफिसल कुछ भी नहीं बतया गया है ।
जिओ मानो नये नये धमाकेदार स्कीम लाने के लिये ही ज्यांना ज्याता है । bitcoin की तर्ज पर जिओ coine लाने की योजना मुकेश अंबानी के बेटे आकाश अंबानी ने की है । खबर के मुताबिक आकाश अंबानी इसी जुडा 50 लोगोनका स्टाफ बना रहे है । जिओ ने अब तक जो भी किया है । धमाकेदार किया है देखणे वाली बात के jiocoin के जरये bitcoine को कितनी टक्कर दे पाता है ।

बिटकोईन क्या है इसे भी पढिये 

इसकी शुरुआत ३ जनवरी २००९ को हुई थी। यह विश्व का प्रथम पूर्णतया खुला भुगतान तंत्र है। दुनिया भर में १ करोड़ से अधिक बिटकॉइन हैं। बिटकॉइन एक वर्चुअल यानी आभासी मुद्रा है, आभासी मतलब कि अन्य मुद्रा की तरह इसका कोई भौतिक स्वरुप नहीं है यह एक डिजिटल करेंसी है। यह एक ऐसी करेंसी है जिसको आप ना तो देख सकते हैं और न ही छू सकते हैं। यह केवल इलेक्ट्रॉनिकली स्टोर होती है। अगर किसी के पास बिटकॉइन है तो वह आम मुद्रा की तरह ही सामान खरीद सकता है। यह एक खवब की तराह है जो सो जाने पर आता है और निंद खुल जाने पर खतम हो जाता है । इसका जितना फायदा दीखता है उतना नुकसान भी है । bitcoine को कोई मान्यता नही है । कोई भी गव्हरमेन्ट या रिजर्वे बँक जोखीम के अधीन मानते है ।

क्या कहता है rbi बिटकोईन के बारे में

Rbi ने साफ तौर पर यह कहा है बिटकॉइन का कोई आधार ही नही है जो इसे खरीद रहे है वह अपनी जिमेदारी पर खरीदे rbi इसकी कोई गारेंटी नही लेता ।पूरे विश्व में चलने वाली क्रिप्टोकरेंसी बिटक्वाइन का मूल्य पहली बार 12 हजार डॉलर के पार चला गया। इससे पहले 29 नवंबर को यह 10 हजार डॉलर का हो गया था। इसके इस स्तर पर पहुंचने के साथ ही आरबीआई ने भारत में निवेशकों का आगाह कर दिया है।  आरबीआई ने जारी किया सर्कुलर आरबीआई ने मंगलवार को सर्कुलर जारी करते हुए कहा कि इसका प्रयोग करने वाले आने वाले खतरों से आगाह रहें। इससे जो भी आर्थिक, सामाजिक, ऑपरेशनल, कानूनी नुकसान अगर होता है तो इसके जिम्मेदार वो खुद होंगे। मेरा यह आर्टिकल आप को अच्छा लगा तो लाइक या शेयर करे 
क्या बिटकॉइन को मात दे पाएगा जिओ कॉइन क्या बिटकॉइन को मात दे पाएगा जिओ कॉइन Reviewed by Sultansayyad on January 14, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.